भारत
Trending

उत्तर प्रदेश का गौ संरक्षण केंद्र :

संगबाद भास्कर न्यूज़ डेस्क : सीएम योगी आदित्यनाथ ने उच्च स्तरीय बैठक में बताया योजना की मंशा है। उत्तर प्रदेश के 5150 गो संरक्षण केंद्र निराश्रित वंश के साथ बेरोजगार ग्रामीणों सहारा बनेंगे। गौ संरक्षण से जुड़ी योजनाओं से स्थानीय लोगों को सीधे जोड़ा जाएगा।

गौ संरक्षण केंद्र व आश्रय स्थलों की देखभाल के साथ गोवंश के स्वस्तिका करें। टीकाकरण और स्वच्छता में स्थानीय लोगों को सहभागी बनाया जाएगा। गोबर गोमूत्र से बनने वाली चीजों के साथ ही गौ संरक्षण केंद्रों के आसपास वृक्ष रोपण और उनकी देखभाल का काम भी स्थानीय लोगों के जरिए ही किया जाएगा। प्रदेश में 11.4 लाख निराश्रित गोवंश है। सरकार द्वारा 5150 अस्थाई निराश निराश्रित गोवंश आश्रय स्थल स्थित है। इलाकों में 187 से ज्यादा बढ़ेगा संरक्षण केंद्र बनाए गए हैं। शहरी इलाकों में कान्हा गौशाला और कान्हा उपवन के नाम से 400 गौ संरक्षण केंद्र स्थापित किया गया है। 50लाख 21हजार गोवंश को संरक्षित किया गया है।गौ पलको को संरक्षण केंद्र के लिए सरकार प्रति 2 एकड़ की जमीन पर 1लाख20 हजार का अनुदान दे रही है। गौ संरक्षण केंद्र पशुओं के लिए शेड पेयजल आरती आवश्यक मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध होगी। हर महीने डायरेक्टर बैंक ट्रांसफर के माध्यम से पशुपालक के बैंक खाते में प्रतिदिन की दर से पशु के भरण-पोषण के लिए 30 रुपए की धन राशि प्रति गोवंश हस्तांतरित कराई जाएगी। संरक्षण केंद्र चलाने वाले व्यक्ति को गौ वंश के गोबर मूत्र और दूध आदि से अतिरिक्त कमाई भी हो सकेगी। जिससे कई स्थानीय लोगों को रोजगार मिलेगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button